राष्ट्रीय जल अकादमी, केन्द्रीय जल आयोग, पुणे के संबंध में


केंद्रीय जल आयोग के तहत राष्ट्रीय जल अकादमी (राजअ), पुणे, जो जल संसाधन विभाग, नदी विकास और गंगा संरक्षण, (जसंवि, नवि और गंसं), जल शक्ति मंत्रालय का एक संलग्न कार्यालय है, जल क्षेत्र के पेशेवरों और अन्य हितधारकों के प्रशिक्षण और क्षमता निर्माण के क्षेत्र में "उत्कृष्टता केंद्र" के रूप में कार्य कर रहा है |

राष्ट्रीय जल अकादमी, पुणे केंद्रीय जल अभियांत्रिकी सेवा समूह 'ए' और समूह 'बी' अधिकारियों के लिए प्रेरण प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित करने के लिए एक अधिदिष्ट केंद्रीय प्रशिक्षण संस्थान (केप्रसं) है;समूह 'ए' तथा समूह 'बी' अधिकारियों के लिए अनिवार्य संवर्ग प्रशिक्षण कार्यक्रम; जल संसाधन विकास और प्रबंधन के क्षेत्र में हितधारकों के लिए क्षमता निर्माण; आंतरिक क्षेत्र प्रशिक्षण; उभरती प्रौद्योगिकियों के क्षेत्रों पर प्रशिक्षण, उद्देश्य-उन्मुख प्रशिक्षण; विद्यालय शिक्षकों के लिए जन जागरूकता कार्यक्रम; गैर सरकारी संगठन; मीडिया पेशेवर, जन संपर्क संस्थान आदि; भारतीय और विदेशी नागरिकों आदि के लिए मांग आधारित कार्यक्रम आदि | इसके अलावा, अकादमी के उद्देश्यों में राज्य सरकार के संस्थानों को उनकी विशिष्ट प्रशिक्षण आवश्यकताओं के लिए सहायता और प्रशिक्षण तथा अन्य उद्देश्यों के लिए अंतरराष्ट्रीय एजेंसियों के साथ सहयोग शामिल है |राष्ट्रीय जल अकादमी, पिछले 33 वर्षों से तकनीकी (अभियांत्रिकी) और गैर-तकनीकी (गैर-अभियांत्रिकी) जल संसाधन क्षेत्र के दोनो पेशेवरों की व्यापक प्रशिक्षण आवश्यकताओं का समाधान कर रहा है |

☛ अधिक जानकारी के लिए जांए :- https://nwa.mah.nic.in.
☛ केन्द्रीय जल आयोग के लिए भी :- http://cwc.gov.in
☛ जल संसाधन, नदी विकास और गंगा संरक्षण विभाग, जल शक्ति मंत्रालय :- http://jalshakti-dowr.gov.in



राष्ट्रीय जल अकादमी ई-लर्निंग कार्यक्रम के संबंध में


मई 1988 में अपनी स्थापना के बाद से, अकादमी ने समय-समय पर भारत के जल क्षेत्र में प्रशिक्षण की आश्यकताओं का आकलन किया और इसके उपयोगकर्ता के आधार पर, विषयों, शिक्षाशास्त्र और संस्थागत संबंधों को जोड़ना जारी रखा | वर्ष 2012 में राष्ट्रीय जल अकादमीको विश्व मौसम विज्ञान संगठन (WMO) के "क्षेत्रीय प्रशिक्षण केंद्र" के रूप में मान्यता दी गई थी और दक्षिण एशियाई देशों के प्रतिभागियों के लिए बुनियादी जल विज्ञान और उन्नत हाइड्रोलिक्स पर भागीदारी के साथ नियमित आधार पर दूरस्थ शिक्षा साधन में कार्यक्रम आयोजित करना शुरू कर दिया |

वर्ष 2020 के दौरानसिंचाई और जल निकासी पर अंतर्राष्ट्रीय आयोग (ICID ). के साथ सहयोग विकसित किया गया है और "सूक्ष्म-सिंचाई प्रणाली" पर एक अंतर्राष्ट्रीय प्रमाणपत्र पाठ्यक्रम शुरू किया गया है |आगे, कोविड-19अतिमारी की स्थिति में, राष्ट्रीय जल अकादमी ने आसानी से उपलब्ध टूल का उपयोग करके मार्च 2020 से अपनी सभी प्रशिक्षण और क्षमता निर्माण गतिविधियों को ऑनलाइन साधन में स्थानांतरित कर दिया | 1 दिन से लेकर 15 सप्ताह तक की अवधि के कुल 83 कार्यक्रम आयोजित किए गए, जिसमें प्रतिभागियों की संख्या पिछले वर्षों के प्रतिभागियों की औसत संख्या से लगभग नौ गुना अधिक थी |

आगे, अपनी पहुंच को और बढ़ाने के लिए अकादमी ने यह ई-लर्निंग पोर्टल लॉन्च किया है | राष्ट्रीय जल अकादमी ई-लर्निंग पाठ्यक्रम भौगोलिक रूप से बिखरे हुए दर्शकों की आश्यकतओं को ध्यान में रखते हुए किसी भी समय, कहीं भी, लचीला है | ई-लर्निंग सामग्री इंटरैक्टिव मल्टीमीडिया में बनाई जाती है; पीडीएफ फाइलें आदि, और मूडल पर आधारित अनुकूलित लर्निंग मैनेजमेंट सिस्टम (एलएमएस) के साथ एकीकृत है | उपयोगकर्ता पंजीकरण और किसी विशेष पाठ्यक्रम में शामिल होना उचित उपयोगकर्ता प्रबंधन के लिए मूडल लर्निंग मैनेजमेंट सिस्टम के अंदर विकसित किया गया है |100 एमबीपीएस इंटरनेट कनेक्टिविटी के साथ असीमित समवर्ती शिक्षार्थियों के लिए बुनियादी हार्डवेयर ढांचा स्थापित किया गया है जो अधिक प्रतिभागियों की सेवा के लिए पूरी तरह से मापनीय है | सिस्टम के विस्तृत तकनीकी विवरण हैं; (i) ऑपरेटिंग सिस्टम: क्लाउड आधारित; (ii) डेटाबेस सर्वर: MySQL; (iii) अनुप्रयोग विकास: जेएसपी, पीएचपी, एचटीएमएल आदि; (iv) एलएमएस: मूडल; (v) वेब सर्वर: अपाचे टॉमकैट; (vi) ऑनलाइन कक्षाएं: सिस्कोवेबेक्स; और यूआरएल :-https://ecourses.elearningindia.org.in


इन्फोग्राफिकसी


image description
श्री. गजेंद्र सिंग शेखावत माननीय केन्द्रीय मंत्री


image description
श्री . पंकज कुमार सचिव
जल संसाधन, नदी विकास और गंगा संरक्षण विभाग




image description
श्री . आर . के . सिन्हा अध्यक्ष
केन्द्रीय जल आयोग




image description
श्री ए के खारया मुख्य अभियंता तथा प्रमुख
राष्ट्रीय जल अकादमी, केन्द्रीय जल आयोग, पुणे